भारत के इतिहास के कुछ अनसुलझे किस्से मौत के

Rate this post

भारत के इनतहास में आज भी कुछ ऐसे सवाल है जिनका जवाब आज तक किसी को नही पता चला वह एक तरह की पहली बनकर ही रह गए यह है किस्से मौत के इसमें भारतीय राजनेताओं, वैज्ञानिकों से लेकर कलाकार तक जिनकी मौत एक पहली ही रह गयी किसी को भी नही पता चला आज तक की सच क्या है
तो चलिए हम आपके सामने लेकर आ रह है कुछ अनसुलझी पेहलिये जानते है उनके बारे में

1 . लाल बहादुर शास्त्री

1st

लाल बहादुर शास्त्री जो भारत के पूर्व प्रधानमंत्री थे जिनकी मौत एक सँधैयपूर्ण परिस्थितियों में हुई में से एक है पाक के साथ ताशकंद समझौते के अगले ही दिन होटल के कमरे में भारतीय प्रधानमंत्री का शव पाया जाता है। उनकी मौत दिल का दौरा पड़ने से बताई जाती है। परंतु इस बात की संभावना जताई जाती रही है कि उनकी ज़हर देकर हत्या की गई थी।

2 नेताजी शुभाष चंद्र बॉस

2nd

18 अगस्त 1945 को ताइवान के समीप दुर्घटनाग्रस्त हुए जापानी विमान में नेताजी बोस की मृत्यु का दावा किया जाता रहा है। परंतु तब से लेकर आज तक नेताजी की मौत सारे विश्व के लिए एक पहेली बनी हुई है।

३. डॉ होमी जहांगीर भाभा

3rd
‘भारत अल्प समय में ही नाभिकीय ऊर्जा संपन्न हो जायेगा’ 1966 में डॉ भाभा ने बयान देते हुए कहा उनके इस बयान के बाद स्विस की पहाड़ियों में उनके विमान को दुर्घटनाग्रस्त होना बताया गया था। डॉ भाभा के विमान का मलबा आज तक नहीं मिला है।

4 संजय गाँधी

4th
आपको पता ना हो संजय गाँधी पर पहले ही 3 बार जानलेवा हुम्ला हो चूका है लेकिन वह उस हमले से बच गए थे परंतु हर बार बचने के बाद 1980 में दिल्ली के सफदरजंग हवाई अड्डे के समीप एयरक्राफ्ट दुर्घटना में उनकी मौत हो गई और उस समय के रिपोटर्स का कह ना ही इसके पीछे उनकी माँ का हाथ मतलब इंदिरा गाँधी की साजिश थी लेकिन यह बात आज तक साबित नही हो पायी

5. डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्ज़ी

5th
नेहरू सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे डॉ मुखर्जी कश्मीर को अलग अधिकार देने व अनुच्छेद 370 के खिलाफ थे। “एक देश में दो निशान, दो प्रधान, नहीं चलेगा, नहीं चलेगा।” यह नारा देने वाले मुखर्जी को 1958 में उनके कश्मीर भाषण के पूर्व गिरफ्तार कर लिया गया था। इस मामले में संदेह इस बात से भी गहराता है कि मौत के बाद उनके शव का पंचनामा भी नहीं करवाया गया था।

loading...