रामभक्त हनुमान का जन्म इस गुफा में हुआ था, माता अंजनी ने क्रोधित होकर बंद कर दिए द्वार

Rate this post

श्री राम जी के परम भक्त हनुमान जी के बारे में के बारे में हम लोग काफी कुछ जानते है। हनुमान जी के बारे में हम अक्सर कई कथाएं सुनते है। इन कथाओ में हनुमान जी के शक्ति, बुद्धि, भक्ति आदि का बखान होता है। हनुमान जी के जन्म की भी कभी कथाये प्रचिलित है, पर किसी भी कथा में हनुमान के जन्मस्थान का कोई वर्णन नही है।

तो चलिए आज हम आपको प्रभु श्री राम के परम भक्त के जन्मस्थान से झुंड रोचक तथ्य बताते है।

झारखंड स्थित इस गुफा में हुआ जन्म

1
यह गुफा झारखंड के गुमला जिले से करीब 21 किमी की दूरी पर स्थित है। इस जगह पर ये माना जाता है कि हनुमान जी का जन्म इसी गुफा में हुआ था। इस जगह को 'आंजन धाम' कहते है।

आंजन में हुआ था जन्म

2
इसी जगह के पास स्थित पालकोट प्रखंड में सुग्रीव व बाली के वानर राज्य 'किश्किंधा' होने के प्रमाण भी दिए जाते है। अगर ये प्रमाण सही है तो यह बात सिद्ध हो जाती है कि हनुमान जी का जन्म 'आंजन' में ही हुआ था। माता अंजनी का निवास स्थान होने के कारण गुमला जिले का एक नाम आंजनेय भी है।

loading...

360 शिवलिंग भी हैं यहां

3
यहाँ के एक पहाड़ पर एक और गुफा के नज़दीक 360 शिवलिंग है। इन शिवलिंगो का संबंध रामायण काल से बताया जाता है। मन जाता है मां अंजनी यहां रोज शिवजी की पूजा करती थी।

यहां सर्प गुफा भी है

4
यहाँ पर कई तालाबो के साथ एक प्राचीन मन्दिर भी बना हुआ है। यह आंजन माता मंदिर है, और इस मंदिर के निचे सर्प गुफा भी है।

सर्प गुफा के दर्शन करने ज़रुर जाते है भक्त

5
यहाँ जो भी भक्त आते है वह इस गुफा के दर्शन जरूर करते है।

गुफा के अंदर भी है एक रास्ता

p
यहाँ आने वाले भक्त यह मानते है कि इस गुफा के अंदर भी एक रास्ता है। भक्तो का विश्वास है कि इसी रास्ते से मां अंजनी खटवा नदी तक स्नान करने जाया करती थीं।

क्रोधित होकर माता अंजनि ने बंद किए द्वार

6
एक कथा के अनुसार, एक बार यहां के आदिवासियों ने मां अंजनी को खुश करने के लिए बकरे की बलि दी थी। पर इसके विपरीत माता अप्रसन्न हो गई और तभी से माता ने गुफा का द्वार बंद कर लिया।

प्रतिमा में हनुमान जी माता अंजनी की गोद में बैठे हैं

7
देश में यूं तो हनुमान जी के कई मंदिर हैं, लेकिन उनका जन्मस्थान आंजन होने के कारण इस जगह की एक अलग ही पहचान है। आंजन नगर में एक मंदिर स्थित है, जिसमें स्थापित प्रतिमा में हनुमान जी माता अंजनी की गोद में बैठे हुए हैं।

सौजन्य से - दैनिक जागरण।

loading...